शुक्रवार, 24 जून 2011

कवि और चित्रकार

कवि  हो  अथवा  चित्रकार, 
दोनों ही भावों के आराधक |
इधर लेखनी उधर तूलिका, 
एक तरह के  दोनों  मापक ||

                                       कवि भावों से कर देता है,   
                                       शब्दों का अनुपम श्रृंगार ||
                                        अलंकार, छंदो से  उनमे,
                                        भर  देता मन के उदगार |

 चित्रकार  भी  आरेखों  पर, 
 रंगों  का  करता  विस्तार |
 नैसर्गिक सुषमा का लोभी, 
 भर देता  चित्रों  में  प्यार ||
                                              अंतर्मन  की यही  भावना ,
                                               चित्रों का रचती  है संसार | 
                                               रस,छंद.संगीत समन्वित,
                                                प्रस्तुत  करती  है उदगार  ||

 दोनों की  है एक  साधना ,
 साधन भिन्न साध्य एक |
 कर देते हैं निज जीवन में, 
 भावों का मंगल अभिषेक ||

1 टिप्पणी:

  1. त्रिपाठी जी बहुतसुन्दर अभिव्यक्ति, सुन्दर शव्द व्यंजन है आप की ! आप ने कवी और चित्रकार को अच्छे स्वरुप में रेखांकित किया है
    कवि और चित्रकार में भेद है। कवि अपने स्वर में और चित्रकार अपनी रेखा में जीवन के तत्व और सौंदर्य का रंग भरता है। मेरा ब्लॉग है कृपया आपनी लेखनी की अमित रेखाएं मेरे ब्लॉग पर भी खिंच लीजियेगा

    उत्तर देंहटाएं