गुरुवार, 30 जून 2011

बरखा रानी

धरती कर श्रृंगार चली,अम्बर पनघट के तीर| 
                                                 नीर गागर में भर करके|

पवन प्रेरित जल कण संवेग, भर रहे जीवन में उल्लास|
चतुर्दिशि फैले नव परिधान,हरीतिमा का देते  आभास ||
इधर दादुरों की है  टर टर, तो उधर है नक्काडों की नाद|
तभी तो खुश हो करके मोर, नाचते उपवन के उस पार||

किसलय सी सुकुमार बरखा ने,अब हर ली उसकी पीर| 
                                               अपनी बाँहों में भर करके|

कल कल की आवाज कहीं है, तो कहीं  हर हर का संवेग|
आ गयी अब बरखा रानी, नदी नालों में भर भरकर मेह||
छिपे धरती में जो नवजात,उन अंकुरों से अब पूंछते मेघ|
जगाया तुमको जिसने आज,उसी का है  मंगल अभिषेक ||

गा पड़े दादुर तब चहुँ ओर, मोर नाचे अब उपवन के बीच|
                                               मोरनी थिरक थिरक करके|

गगन में घुमड़ घुमड़ बादल,बरखा का ही करते  आहवान|
चमकती  विद्युत्  अब घन बीच, मेघ बरसें भीगा परिधान|
नारी नर झूमे  हैं  मिलकर, मुखर हैं शिशुओं  के आहलाद |
नवोदित उत्सव सा परिदृश्य,उमड़ते जन मन के अरमान||

हो चली वसुंधरा भी कृतकृत्य, मिट गयी सारी उसकी पीर|
                                                      नीर अमृत सा पा करके|             
















|               

हनुमान अशोक वाटिका में

बल पौरुष की दिव्य-मूर्ति    
लंका में काल सदृश आयी |
तेज एवं उत्साह अपरिमित, 
 घन गर्जन बन करके छायी ||1||

             लंका के  जन- मन में ऐसा , 
            उन्माद आज क्यों है छाया  |
            अन्वेषक जनकसुता का वह ,
            जब कालदूत बनकर आया ||२।। 
उस दिव्य-शक्ति की राहों में,
जितने भी निशिचर आये हैं |
वे सब भय से कम्पित होकर ,
लन्केश्वर के ढिंग ही धाये हैं||३।।
             मारुत-सुत मारुत की गति से ,
             पहुंचे अशोक वाटिका निकट|
              थीं  जहां  चतुर्दिक  पहरे  पर,
              राक्षसी भयानक और विकट ||४।।
  स्वर्णमयी लंका  के अन्दर  ,
 स्वर्ग-सदृश मधुमय प्रदेश |
हनुमान अशोक वाटिका में, 
निस्तब्ध किये मंगल प्रवेश |।५।।
             जग की सत्ता का  सार लिए जो  ,
             बहु बिधि फल तरु आंदोलित थे|
             जिनपर रस-प्रिय खग-वृन्दों के
             समुदाय प्रेम से अनुपोषित थे ||६।।

वैभव अनुपम था उपवन का,
जिसकी छवि दिव्य-पुरी सी  |
तरु झूम रहे थे मन्द मन्द , 
 विजया हर पात चढ़ी सी थी |।७।।
             मधुपूरित-फल निरख वीर,
             मन ही मन में हुँकार भरी|
             मानो वर्षों की  क्षुधा लिए ,
             संतृप्ति वहीं  सामने खड़ी |।८।।
देखे कपिवर चहुँदिशि फैले,
तरु झूम रहे  निर्भय होकर|  
मानों नंदन वन उतर पड़ा  ,
लंकापति का अनुचर होकर||९।।
             वृक्षों की  शाखाओं पर लगता ,
              धनपति आवास मचलता हो |
              उन रंग-विरंगे पुष्पों से मानो, 
               सम्प्रभुता का रंग बरसता हो ।।१०।।

आश्चर्यचकित जब बजरंगी का,
 हो गया अचानक हृदय विकल |
पादप अशोक की छाया में तब ,
सिय को लख अश्रु बहे अविरल ||११।।

               उस  नीरवता की पावन छवि से ,
                निस्तब्ध  अशोक वाटिका रही|
                 जिसकी तरु छाया में सिमटी , 
                 त्रिभुवन की प्रेम -पुन्जिका रही||१२।।
पञ्च विटप की शीतल छाया,
निष्फल सी कपिवर ने देखा| 
उद्विग्न विलखती सीता का ,
जब नयन नीर बहते  देखा ||१३।।
                यह देख क्षोभ से कातर हो कपि,
                प्रभु के चरणों  का ध्यान किया|
                 चढ़ गये सुगम तरु  शाखा पर,
               फिर संकल्पों का आह्वान किया||१४।।
  अब छोड़  मुद्रिका, हाथ जोड़,
परिचय अपना कपि दे डाले| 
निश्चल विश्वास करें हम पर,
संक्षिप्त  कथा सब कह डाले||१५।।
                क्षणभर सिय पद की छाया में,
                प्रभु पद कमलों का गान किया|
                फिर उस चूड़ामणि को ले करके,
                 ज्योंहि कपि ने प्रस्थान किया||१६।।
दृष्टि पड़ी  मधुमय फल पर,
तब  रोम-रोम यूँ सिहर उठा|
अनुमति सीता की पाते ही ,
प्रबलेच्छा का उन्माद उठा||१७।।
 
                तोड़े तरु की उन  शाखाओं को,
                मधुपूरित फल का पान किया|
                ले बार बार हरि नाम वहीँ फिर ,
                उपवन में कुछ उत्पात किया||१८।।
सुनकर वृतान्त लंकेश्वर तब,
सेनापति को  सन्देश दिया|
 उत्पाती कपि को यथाशीघ्र,
सम्मुख लायें ,आदेश दिया||१९।।
               तरु तोड़ पवनसुत गर्जन भर,
               जब निशिचर का संहार किया|
               तब मेघनाद क्रोधित हो करके ,  
               कपिवर पर अधिकार किया ।।२०।।
वानर की शोभा पूंछ समझकर,
तत्काल आग उसमें लगवाया |
कपिवर का क्रोध तत्क्षण ही  ,
काल- सदृश लंका में  छाया  ।।२१।।
              स्वर्णजटित वह लंका नगरी,
               पलभर में राख नजर आयी|
               त्राहिमाम की आर्तनाद से,
               आपत्ति घटायें  घिर आयीं|| २२।।
 
ले बार बार हरिनाम वहीं फिर ,
प्रभु- चरणों का ध्यान किया ।
निज कौशल का परिचय देकर ,
 तब कपिवर ने प्रस्थान किया ।।२३।।
 


खो गया गाँव मेरा

खो गया है गाँव मेरा, आपके इस शहर में ही| 
बहुत भोला है बेचारा, अब रिहा कर दो उसे||

           टुकड़े- टुकड़े अंग उसके, देखकर बेचैन हूँ  मैं|
           कहीं उसकी आत्मा को, टुकड़े में न बदल दो||
           पेड़, पौधे, फूल, फल और,सारी उपज के लिए|
           क्या हो गया बंधुआ तुम्हारा, उम्रभर के लिए||

छोड़ दो उसको वह  अपनी, मिटटी में सांस  लेगा|
दम घुट रहा  होगा यहाँ, इस  रोशनी  की  छाँव में|
घर से तो आया यहीं  था, पर कहीं दिखता नहीं  है|
हाथ भी पकडूं तो किसका,शहर में मिलता नहीं है ||

              क्या कहूँगा पोखरों से, जिनकी मिटटी फट गयी है|
               पेड़ों की सूखी टहनियां भी, उसी के आसरे पली हैं||
               नीम आँगन की सुबह से, शाम  तक बस  रोती  है |
               अब धूप भी  मैली  हुई  है, मुंह  तक नहीं धोती  है||

फंस गया इस भीड़ में वह, भोले भालों की तरह से|
मैं उसे खोजूं यहाँ  पर ,या खुद को बचाऊँ  शहर से||


   

तुम्हारे बिना

गुजरते गुजरते गुजर जायेंगे दिन,
अगर पास होते तो बात और होती|

             जिन्दगी तो सभी जीते हैं उम्र  भर,
             कोई हंसता हुआ व कोई रोता हुआ|
             मौत से जिन्दगी का सफर एक सा,
             पाते हैं लोग अपना ही खोया हुआ ||

बनाते बनाते महल स्वप्न का एक,
बिगाड़े ना होते तो बात और होती|
गुजरते गुजरते गुजर जायेंगे दिन,
अगर पास होते तो बात और होती||


               सुबह और शाम रातें बियाबान सी ,
               रगों में जहर  ही  जहर  घोलती हैं|
               कोई गीत ओठों पर आता नहीं  है,
               ये तनहाई ना जाने क्या पूंछती है||

संभलते संभलते संभल जायेंगे पग,
सहारा जो देते तो बात और  होती|
गुजरते गुजरते गुजर जायेंगे दिन,
अगर पास होते तो बात और होती||


                      गुजरते हैं वे क्षण तेरी याद में जो, 
                      जिन्दगी के मेरे वही हमसफर हैं|
                      दिखाते हैं कुछ चित्र बिसरे हुए वे ,
                      बनाते हैं सपनों के कोई  महल हैं||

पिघलते  पिघलते   मेरी  वेदनाएं,
तुझे भी डुबोती तो बात और होती|
सुनाते  सुनाते  खत्म दास्ताँ अब, 
तुम सुनते होते तो बात और होती ||

बुधवार, 29 जून 2011

कर्णधार

   जाग हिंद के सपूत, यदि वतन से प्यार हो|
   तुम्ही  महान देश के, महान  कर्णधार  हो ||
            बढाये जा कदम सदा 
            लक्ष्य जब  महान  है |
            तुम्हारे साथ  सैकड़ों 
            जब लोग तेरे साथ हैं ||
            याद कर एकला चलो
            बापू  की आवाज  को |
            स्वयं  चलो तब कहीं 
            हमसफर को साथ लो ||
   पाँव रुके ना कभी, यदि खड़ा पहाड़  हो |
   तुम्ही महान देश के, महान कर्णधार हो ||
            मानता हूँ देश  अब
            आजाद शक्तिमान है |
            पर अभी दासता का
            हुआ नही अवसान है ||
            देख लो तुम आज भी
            कुछ खड़े मुंह फाड़कर |
            खुद बचो व बचाओ भी 
            ले करके उन्हें दांव पर ||
    याद रख तू किसी पर, इस तरह न भार हो  |
    तुम्ही  महान देश के, महान  कर्णधार  हो ||
           खिल गये चमन तो क्या
           अब कार्य ख्त्म हो गये |
            प्रतिफल अभी  शेष है
            मदहोश क्यों सो  गये ||
   श्रम न जाये व्यर्थ, इसका तुम्हें ध्यान हो |
   तुम्ही  महान देश के, महान  कर्णधार  हो ||

जीवन के आयाम

कैसा है आयाम तेरा और कैसा तेरा रूप है |
जीवन मुझको लगता जैसे सचमुच मूक है ||
                                     बचपन में जो सौम्य सरसता खुशियों में संजोये था|
                                     क्रोध मोह  और ईर्ष्या से संभाव शून्य मग खोये था ||
                                     आ करके किशोरावस्था में वही  बसंत बन आया है |
                                     तन मन का आनंद श्रोत बनकर  उपवन में छाया है ||
बना गया मधुमास वहीं जब पाया समरूप है |
जीवन  मुझको  लगता जैसे सचमुच मूक है ||
                                      तरुण काल में जीवन ही जब संघर्ष रूप ले लेता है |
                                     अब तक जो कुछ पाया था उसको नीरस कर देता है ||
                                      वृद्धावस्था में जीवन  सिर पर चढ़कर भार बढ़ाता है |
                                      जीवन को मृत्यु- शैय्या तक बरबस ही ले जाता है ||
समझ न पाया अब तक  तेरे कितने रूप है |
जीवन मुझको लगता जैसे सचमुच मूक है ||
                                      सचमुच है आश्चर्य आज भी प्रश्न चिहन सा लगता है |
                                      जीवन क्या हैऔर कैसे है यह भी रहस्य सा लगता है ||
                                      होकर तटस्थ जब जीवन में एकांत योग अपनाता हूँ |
                                      तब जीवन के कुछ  सार तत्व अंतर्पट पर सुलझाता हूँ ||
जीवन मानव तन पर लगता क्यों अवरूढ है  |
जीवन मुझको लगता  जैसे  सचमुच मूक है || 

आंसू

   अंतर्मन की व्याकुलता से,
     जब जब ओंठ फडकते  हैं |
      यातो कविता के स्वर फूटें,
       या आंसू बनकर वे बहते हैं ||

                              जितने आंसू बहे अब तक,
                                उतने ही स्वर बन कर फूटे |
                                 अरमानों की इस देहली पर,
                                   अबतक उतने ही सपने टूटे ||

स्मृतियों  के उदभावन  से,
  जो आंसू बन कर बहते हैं |
    अरमानों के दीप सजाये,
      स्मृतियों की पूजा करते हैं  ||

                                 परिपाक सदृश कभी कभी वे ,
                                  अंतर्ज्वाला भी बन जाती है |
                                    खट्टे मीठे अनुभव से  कभी 
                                     मधुबाला भी बन जाती है ||

 अंतर्भावों के नर्तन से जब,
   स्वर और ताल संवरते हैं|
    अविरल आंसू की धारा में,
       वे मोती बन कर बहते हैं||

                                      जीवन का एक पृष्ठ विधि ने ,
                                        शायद छोड़ दिया था  कोरा  |
                                          दे करके एक कलम हाथ में,
                                           जीवन के इस उपवन में छोड़ा ||

यह भारत का गाँव है

झांकी मात्र यही भारत की, यह भारत का गाँव है |
कर्म जहाँ पारस कहलाता, धर्म  बना  भगवान है ||

            नारी है  देवी की  प्रतिमा,
            सब पुरुष  देव  तन धारी |
             मानव की काया मन्दिर,
             और गीता प्रभु की वाणी || 

मानव का आदर्श जहाँ पर, परमेश्वर का नाम है |
झांकी मात्र यही भारत की,यह भारत का गाँव है ||

              गंगा यमुना पावन सरिता,
              निर्झर सुधि जब बरसाती|
              पावन, पुण्य- प्रभा से वे ही, 
              मोक्ष- मार्ग  भी  दिखलाती ||

संस्कृति की संवाहक इस, गौरव का अभिमान है |
झांकी मात्र यही भारत की, यह भारत का गाँव है ||

              धर्म ,जाति और भाषा  में,
              एकता  जहाँ का  नारा  है |
              ऊच नीच के भेदभाव तजि
               मानव को मानव प्यारा है |

ऐसी  पुण्यमयी बसुधा ही, कहलाती  सुरधाम है |
झांकी मात्र यही भारत की,यह भारत का गाँव है ||

               जयकिसान की शंखनाद से ,
                नित  जहाँ  सवेरा है  होता  |
               अनेकता  में  ही एकता का,
                अब  यहीं  बसेरा  है  होता ||

जहाँ भौतिकी से आध्यात्मिक,शक्ति का संग्राम है|
झांकी मात्र यही  भारत की, यह भारत का गाँव है ||

                       हरित  क्रांति के नारे से,
                       ऐसी खुशहाली छायी है |
                       दूर हुआ दारिद्र देश का,
                       ऐसी शुभ वेला आयी है ||

सोना है इस देश की माटी, कर्म भूमि हर गाँव है|
झांकी मात्र यही भारत की,यह भारत का गाँव है||

हार की जीत

हार नहीं है यह मेरी, जीत की यह पहचान है |
संग में तेरे हार सुनहरे, जीवन का आयाम है ||

                                        पग पग पर साहचर्य तुम्हारा, लेकर आयेंगी खुशियाँ |
                                        जैसे पतझड़ के आँगन में, खिलती हैं फिर से कलियाँ ||
                                         तुम  बसन्त की अगवानी में, उसी  तरह से आओगी |
                                         बाँहों में भरकर फिर कोई, गीत मिलन के  गाओगी ||

समझ नहीं पाता यह ,पतझड़ क्यों बदनाम है |
संग में तेरे हार सुनहरे, जीवन का आयाम है ||

                           हार नहीं समझूंगा तब तक, जब तक सांसे हैं चलती |
                           विजय समझता हूँ उसको ,जो हर पल मुझसे कहती||
                            जब जब खिलते हैं गुलाब, इन काँटों के दरम्यान ही  |
                            तब तब बहार बन आएगी, तेरे जुल्फों की छाँव  भी  ||

मंजिल तक पहुंचे राही का, अपना अंदाज है |
संग में तेरे हार सुनहरे. जीवन का आयाम है ||

                           विपदाओं से झुलस चूका है. यद्यपि  मन  का यह  कानन|
                           हरियाली लायेगी किस्मत.कभी तो बरसेगा कोई सावन ||
                           याद तुम्हारी जो संग मेरे.  मन  बहलाने का एक  साधन | 
                           इसी सहारे से ही कर लूँगा. किसी तरह मैं  जीवन यापन ||

कभी नहीं कह सकता. हर कोशिश नाकाम है |
संग में तेरे हार सुनहरे. जीवन का आयाम है ||

रोज का मुसाफिर

मैला और कुचैला, अपने लिए हाथ में थैला, मुसाफिर एक आता है |
सुबह शाम दोपहर भटकता, जैसे कभी न थकता, दुआएं दे जाता है ||

       रोज सुबह घर से निकलेगा, सडकों गलियों पर चलता है |
        उसे न मालूम मंजिल अपनी, फिर भी आगे ही  बढ़ता है ||
        रुक जाता वह वहीँ जहाँ पर, कूड़ों का जमघट दिखता है |
        खुश होता फिर उलट पुलट कर, पाता कुछ तो  हँसता है ||

 झट झोले में रखता, फिर आगे बढ़ता, और मन ही मन कुछ गाता है |
  मैला और कुचैला, अपने लिए हाथ में थैला, मुसाफिर एक आता है ||

     एक दिन आया कुछ न पाया, अगले दिन फिर भी वह आता |
     जो लोग फेंकते तुच्छ समझकर, वह उसके काम आ जाता ||
     भर जाता है जब उसका  थैला, झटपट घर उसको पहुँचाता |
     घरवाली से हंसकर कुछ कहता,  उसको कुछ पैसे दे आता ||

 घरवाली झट आती, झोला ख़ाली लौटाती, हर रोज यही दुहराता है|
 मैला और कुचैला, अपने लिए हाथ में थैला, मुसाफिर एक आता है||

आरजू

गाये सदा तेरे ही गीत को मन |
मेरे गीत को ऐसी संगीत दे दो ||

                            स्वरों  में  मधुर  गीत  ऐसे  ढलेंगे  |
                            जैसे शहनाई पर तैरती हो गजल |
                            चन्द्र  की चांदनी  से  लिपटी  हुई 
                            रात  की  रानी जैसे जाये  मचल ||

उड़े ना कहीं खुशबू  इस फूल की|
स्वर को मेरे गीत सा मीत दे दो ||
गाये सदा तेरे  ही गीत को  मन |
मेरे गीत को  ऐसी संगीत दे  दो ||

                                    उभरती रहे संगीत मन में मेरे |
                                    रात भर करवटें ले जगाता रहूँ ||
                                    गर्मी  बरसात हो या तूफ़ान हो  |
                                    हँसता  हुआ  गम के ओले सहूँ ||

हर कदम पर जो सपने साकार हों |
प्रीति में मेरे ऐसी नयी रीति दे दो ||
गाये  सदा  तेरे  ही  गीत को मन |
मेरे  गीत को  ऐसी  संगीत  दे दो || 

                                  शायद मेरी मंजिलें उनमें ही हों |
                                  खोना न  चाहूं  इस  नियति को ||
                                 आभास  मिलता  हर क्षण  यही |
                                 पीता कोई मेरे मन के उदधि को ||

जलती रहे लव सदा एक गति से |
बुझे दीप में  तू  रौशनी ऐसी दे दो ||
गाये  सदा  तेरे  ही  गीत को  मन |
मेरे गीत  को ऐसी  संगीत  दे  दो ||

अंतर्द्वंद

रात भर मैं नींद का आँचल पकडकर सोचता था |
निशा की गोद में बैठा ख्वाब सा कोई देखता था ||

                         आज तो जीवन में प्रथम ही बार ऐसा वक्त आया |
                         नींद से भी जुदा होने का एक नया अंदाज  पाया ||

पड़ रहे प्रहरों के घन पर शिथिलता नहिं जरा सी ||
मधुर स्मृतियों से घिरा देखकर मुझको  लजाती ||
                                         
                          गमों को भूलने की एक कोशिश ही समझकर के ||
                          मनाने मैं चला उत्सव कहीं  मधुमास जब महके ||

प्रतीक्षा रात भर जिसकी किया था बेसुमारी से |
किनारे टूट कर गिरते हैं नयन के खारे पानी से ||

                            सजाकर सेज पलकों की रातभर राह जब देखा |
                            मिली उन बिदुओं के बीच स्मृति की कोई रेखा ||

समझने की किया कोशिश तो मैं और भी उलझा |
नींद और कल्पनाओं का पूर्व सम्बन्ध न सुलझा |

                               शाम से सुबह की यात्रा से बोझिल नेत्र अब हारे |
                               छिप गये हैं गगन में ज्यों मेरे सौभाग्य के तारे ||

गुजारिश

प्रभू  एक बार ऐसा करिश्मा दिखाइये |
सचमुच मुझे भी देश का नेता बनाइये ||

                                    बचपन से ही नेताओं की मूर्ति बना बनाकर |
                                    ना जाने कितने  फ्रेमों से कमरे को सजाया||
                                    पढ़ करके किताबों में उनके ही करिश्मे को |      
                                    मैंने भी अपने जीवन का यह लक्ष्य बनाया ||

                                     ना जाने कितने छात्रसंघ के चुनाव लड़कर  |
                                     विजयी भी हुए हैं गर्व से सम्मान  पाया है ||
                                     हमेशा प्रथम श्रेणी मुझे मिलती चली गयी |
                                     पढाई में अधिक ध्यान कभी न लगाया है ||

पढ़कर हुए हैं तैयार अब मार्ग दिखाइये |
सचमुच मुझे भी देश का नेता बनाइये ||

                                        जब से टूटा है छात्र--जीवन से  सम्बन्ध |
                                        दर- दर भटक रहें हैं कहीं  चैन न मिला ||
                                        प्रतियोगी परीक्षाओं में कई बार बैठकर|
                                        किस्मत लड़ाया पर  कोई द्वार न मिला ||

                                        हमेशा  यही  उत्तर मिलता  रहा  मुझको |
                                        सर्विस के  लिए  नेता का  सोर्स  लगाओ||
                                        लाचार उनके पास जब जब भी गये हम |
                                        वह बोले हैं दक्षिणा इधर सप्रेम  बढाओ ||

कैसे हो पूर्ण कामना प्रभु आप बताइए  |
सचमुच मुझे भी देश का नेता बनाइये ||

                                        जब ठोकरें खायी बहुत तो मार्ग यह मिला |
                                       एक मित्र के संग  में ठेके का काम संभाला ||
                                       नहर सडक व  पुल की ठेकेदारी से भी हम |
                                        लखपती बन गये तब एक मार्ग निकाला ||

                                       पैसा तो है इस क्षेत्र में मेहनत के दांव पर |
                                       इज्जत नहीं कुछ भी लोग ठेकेदार ही कहें  ||
                                       पीछे  दौड़े जब अधिकारी के रात दिन हम |
                                       कमीशन दें उनको और फिर  तेवर भी सहें ||

जीवन में  कोई  ऐसा नया मोड़ लाइये |
सचमुच मुझे भी देश का नेता बनाइये  ||

                                       सोचता हूँ क्यों न अब मैं नेता ही बन जाऊं   |
                                      अपना भी भाग्य जगाकर औरों का जगाऊँ  ||
                                      किस्मत से अगर दांव पेंच सही हुआ तब तो  |
                                      मंत्री बनूंगा और कोई बड़ा करिश्मा दिखाऊँ ||

                                       देश भक्त का भी वह सम्मान मिलेगा तब |
                                       रातों ही रात कोई ऐसी योजना बनाऊंगा ||
                                       शासन की बागडोर जब हाथों में थामकर |
                                       क्षेत्र की जनता का भी रहनुमा  कहाऊंगा ||

लोगों से कहूँगा मुझे  भी तो आजमाइए |
सचमुच मुझे  भी  देश का नेता बनाइये ||

                                    हर पांच वर्ष  पर  चुनावी- घोषणा लिए |
                                    सीना फुलाकर क्षेत्र में जब पाँव  रखूंगा ||
                                    स्वागत करेगी जनता लिए फूल मालाएं |
                                     सगर्व मुस्कराकर उन्हें धन्यवाद कहूंगा ||

                                     पढ़कर सुनाऊंगा उन्हें मैं चुनावी घोषणा|
                                     बेरोजगारी भुखमरी को पहले दूर करूंगा ||
                                    गाँवों की उन्नति से ही  देश का विकास है|
                                     आगामी योजना में यह प्राविधान रखूंगा ||

 सबसे पहले मुझको तो विजयी बनाइये |
 सचमुच मुझे  भी देश का नेता  बनाइये ||

बाधाओं का अनुदान

तूफानों ने अलसाये, नाविक का शौर्य जगाया ।
झंझावातों ने  दीपक की, जीवट को उकसाया  ||

                      चलीं आंधियां तब पेड़ों ने, कुछ हिम्मत दिखलायी  |
                     तभी उन्हें अस्तित्व प्रमाणित, करने की सुध आयी  ||
                      सहन-शक्ति जागी सुमनों की, उन बर्फीले झोकों से  |
                      चरणों में आ गयी सजगता,अब शूलों की नोकों से  ||

 हर बाधा विपदा ने तो  ,पौरुष का  पाठ पढ़ाया ।
 झंझावातों ने दीपक की, जीवट को उकसाया ।।

                        हर आने वाले विघ्न और, विपदा अभिशाप नहीं हैं  |
                        वह संकट पहले वाला ही,अब हरगिज पाप नहीं हैं  ||
                        संघर्षों को तो शत्रु मानना, मात्र हमारा एक भ्रम है  |
                        यह तो जीवन को जीवट से, जी लेने का अनुक्रम है  ||

संकट की सीढियाँ चढ़ा,जो शिखरों पर चढ़ पाया  |
झंझावातों  ने  दीपक  की, जीवट को  उकसाया  ||

                       सुप्त शक्तियाँ तो जागा करती, हैं नित आघातों से  |
                       बात नहीं बनने पाती जब,चिकनी चुपड़ी बातों से  ||
                       बाधाएं बस आकरके क्षमताओं को चुनौतियाँ देती  |
                      जीवन की निष्क्रियता को वे,नीरसता सी हर लेती  ||

जीवन मूल्य को समझा, जिसने मूल्य चुकाया  |
झंझावातों  ने  दीपक की, जीवट को उकसाया  ||

                    सुख का क्या है मूल्य, बता सकता है दुःख का मारा  |
                    समझा सकता है प्रकाश की, महिमा को अँधियारा  ||
                    असफलता कहती  है मूल्य, सफलता का  पहचानो  |
                    राह दिखाने वाले का तुम, उपकार  तनिक तो मानो  ||

हर संकट में वही सफल,जो रो करके मुस्काया |
झंझावातों ने  दीपक की, जीवट को  उकसाया ||  

मंगलवार, 28 जून 2011

उत्सर्ग

लिखा हुआ इतिहास जहाँ का, तरकश  धनुष कृपाणों से|
कायरता ठहर सकेगी क्या, उन स्वाभिमान की राहों में ||
               अब तक कितने ही देश भक्त, इस धरती पर बलिदान हुए |
               विश्व- प्रेम की ज्योति जलाकर,  हंस हंसकर कुर्वान हुए ||
देश, प्राण और प्राण, देश जो,  एकार्थ बने हैं अब तक भी  |
जिस जौहर की अग्नि शिखा से, पिघल चुके हैं पत्थर भी ||
                आन बान पर मर मिटने को, संग में केसरिया बाना था |
                युद्ध-भूमि पर मरते मरते जब, दुश्मन ने लोहा माना था ||
धरती कांप उठी थी उस दिन,जब लक्ष्मी ने तलवार संभाली |
हिम्मत तो  हार गये थे दुश्मन, उस अबला की देख  सवारी ||
                  चित्तौड़ व  दुर्ग के वे युद्धस्थल, अब भी दम रखते उतनी हैं |
                  कभी अत्याचार सहन करने की, आदत उनकी नहीं पड़ी है  ||
सदियों से भारत का यह  प्रहरी, शीश उठकर देख रहा है|
किसमे इतनी ताकत है जो, शक्ति- ह्रास को सोच रहा है ||
                    भू -रक्षा के गौरव की खातिर,कितनो ने खून बहाया था |
                    कितनो के श्रम से सिंचित, प्रतिफल हमने ले पाया था ||
मुक्त हुए  है ब्रिटिश पाश से, अर्पित करके तन मन धन |
गांधी सुभाष नेहरू पटेल को, आज  हिन्द कर रहा नमन  ||
                      इतिहास बताता है हमको, हम कितनी यात्रा कर आये हैं |
                       युग-पुरूषों के पद चिह्नों पर, क्या क्या अब तक ले पाए हैं ||
भारत भू-सेवा के क्रम में, नेहरू कुल का बलिदान अतुल |
पिता, पुत्र, पुत्री सब मिलकर, तोड़े  कुछ ऐसे व्यूह प्रबल ||
                       इंदिराजी के देश भक्ति से तो, हम उपकृत सब भारतवासी |
                       जीवन के अंतिम क्षण तक, जन सेवा ही मन में थी ठानी ||
रह गयी अधूरी ही अभिलाषा, बहुतेरे  कार्य अभी बाकी थे|
हरियाली से शून्य अभी भी, कुछ  स्थल यहाँ पड़े ख़ाली थे||
                       अनुचर के विश्वासघात की, परिणति मृत्यु सहज ले आयी |
                        भारत के हर एक उपवन में, दुःख की बदली बनकर छायी ||
तब डूब गये सब भारतवासी, शोक सिन्धु के गहरे तल में |
भारतमाता के करुण-क्रन्दन से,एक लहर है उठी गगन में ||
                         तब दौड़ पड़ा था अखिल विश्व ही, भारत के अश्रु मिटाने को |
                         हतप्रभ थे सब उस  कुर्वानी पर, अपना दिल दर्द दिखाने को ||
अश्रु-सरोवर से उपजे तब, राजीव विहंस करके यह बोले |
हममें भी तो रक्त वही है लो,  मैं तत्पर हूँ  निज कंधा खोले ||
                         एक तरफ माता  की अर्थी थी, तो एक तरफ शासन का भार|
                          सक्षम हैं दोनों  दृढ कंधे अब,  हम कभी नहीं खा सकते हार ||
हम सब भी हैं संतान भरत की, उन जैसा अपना भी सपना |
बचपन में ही  केहरि के मुख से, कर लेना दांतों की गणना ||
                       आपत्तिकाल में तो साहस की, सदा सफलता करती है पूजा |
                       जीवन में आगे बढने का, इससे बढ़कर कोई मार्ग ना दूजा ||
ऐसे धैर्य और साहस का परिचय, राजीव दे रहे थे उस क्षण |
पुलकित थी भारत माता भी, रोमांचित धरती के कण-कण ||
                      उद्वेलित भारत  जन मन को, ऐसे नायक की ही रही कामना |
                       राष्ट्र की उन्नति में जिसकी सेवा, देश-भक्ति की भरे भावना ||
इंदिराजी के त्याग व तपस्या को,मानों कोई मिल गयी दुआ|
जन मत से इस वीर पुत्र का, तब राजतिलक सोल्लास हुआ||
                        राज्यासन  का तो गर्व नहीं था, जन -सेवा के उन आदर्शों पर |
                        शांति -मार्ग के अनुयायी  बन, नेहरू के पथ का किया वरण||
सत्ता निज हाथों में लेते ही, कुछ वे विपदाओं से घिर गये तुरत |
पंजाब असम समझौतों पर भी, वे अग्नि-परीक्षा से गये गुजर ||
                            राष्ट्रीय-एकता की खातिर हर एक कोशिश में वे दिखते तत्पर |
                            धर्म जाति से  परे ऍक राष्ट्र की, नव-संरचना में  दिखते अग्रसर||
तब विश्व शांति के लिए उन्होंने,अखिल विश्व का भ्रमण किया |
परमाणु युद्ध के खतरों से भी,निज मुक्ति हेतु कुछ पहल किया ||
                            युवकों में आशा दीप जला कर, शिक्षा में कर दी नव परिवर्तन |
                            नव भारत के नव निर्माण हेतु, कुछ प्रस्तुत किये नये अवसर ||
मुस्कानों से उनके सुधा टपकती, संभाषण में दिखते शक्तिमान|
 मजदूरों के थे परम हितैषी, और वृद्ध जनों का करते सम्मान ||
                            पंचायतीराज के अनुशासन का भी, जो सपना गांधी ने था देखा |
                             उनको संवैधानिक मूल्य सहित, जन जन तक राजीव ने भेजा ||
रामराज्य का यह नव प्रयोग, तब गाँवों में एक लहर ले आयी |
इक्कीसवीं सदी की देहली पर, वह दस्तक बन कर तब आयी ||
                             विज्ञानं धर्म और संस्कृति में भी,उन्नति के मार्ग प्रशस्त किये|
                             मंगल चन्द्र नक्षत्रों पर भी, अब मानव के मंगल अभिषेक किये||
कृषि उद्द्योग विकासों में भी, सौ गुनी सफलता लेकर  आये हैं |
वैज्ञानिक कृषि- संयंत्रों से तो, वे पृथ्वी को स्वर्ग बना डालें  हैं ||
                          इक्कीसवीं सदी में ले चलने को,  जन जन में जागृति लाया है |
                          साध्य नहीं बदला फिर भी, साधन में नव परिवर्तन आया है ||
गुटनिरपेक्ष सिद्धांतों को भी, व्यावहारिकता का जामा पहनाया |
 देश विदेश भ्रमण कर करके, बस मैत्री का  ही सन्देश सुनाया ||
                            भुला नहीं सकते कदापि हम, वह पथ जो  हमको  है दिखलाया |
                             नव युवकों के आशा दीप बने, और निर्बल को अधिकार दिलाया ||
युग पुरुष थे युग क्रांति के थे, और भारत- भविष्य के निर्माता भी |
वे विश्व शांति के प्रबल समर्थक,और संचार क्रांति के उदगाता भी ||
                          नेहरू के सपनों का वह नव भारत, तब साकार रूप लेने वाला था |
                           पंचशील  के उन सिद्धांतों की  भी, सम्यक समीक्षा कर डाला था ||
शान्ति-दूत राजीव निडर होकर, तब  देने चले शान्ति -सन्देश |
राष्ट्रीय-एकता की खातिर वे,युवकों में जगा रहे ऍक नव उन्मेष ||
                             इतने में हिंसा मुखर हो गयी,और दानवता ने भी की अट्टहास |
                             बापू की समाधि भी फट करके,अब छूने लगी अनन्त आकाश ||
इक्कीस मई  की कालरात्रि जब, मानवता पर ऐसे की प्रतिघात |
तब बिलख पड़ी भारतमाता,  और कलुषित हुआ पुन: इतिहास ||
                              धूमकेतु सा जो उदय हुआ था, राजनीति के इस  नीलगगन में |
                              अस्त हुआ भी तो ऐसे ज्यों लगता, उल्का टूट गया कोई  नभ से ||
शोकाकुल अपना परिवार देश तज,  चिरनिद्रा में ली पूर्ण विराम |
काश ?स्वप्न सार्थक हो जाते, मिल जाता उनको वांछित आयाम ||
                              अमर रहेगा उत्सर्ग तुम्हारा, और अमर रहेगा  अनुपम बलिदान |
                               करते अब हम सब भारतवासी, श्रद्धा सुमनों से शत शत प्रणाम ||  

मैं आऊंगा

जब,आऊंगा मैं द्वार तुम्हारे
ले करके कुछ अमृत-वाक |
जल,थल,नभ में भी गूँजेगा,
फिर अपना यह नव प्रवास ||
                                     श्रद्धा ,प्रेम स्नेह कुछ कह लो,
                                      मिलन सुनिश्चित करने को |
                                       विश्वास परिधि का एक बिंदु,
                                        अब पर्याप्त वृत्त को भरने को ||
डरता  हूँ  मैं तड़ित- चमक से,
स्पंदन में कोई प्रीति जगाकर||
अगवानी कर सको तो करना,
मुस्कानों के ही दीप जलाकर|
                                    तेरे ही घर की खुली खिड़कियां  ,
                                    जब हौले- हौले आकर  देखूंगा ||
                                    पवन- सदृश दो क्षण रुक करके,
                                    फिर अन्दर तुमको  ही  देखूँगा ||
यदि सहम गयी तो समझूंगा,
सचमुच मेरी ही रही प्रतीक्षा ||
मौन तपस्विनी सी उदार तब,
तुम ले  लेना  अग्नि- परीक्षा |
                                      पढ़ लेना मन की भाषा तब ,
                                     जब निःशब्द मुझे पाना तुम ||
                                      कोशिश  मैं  भी  यही करूंगा,
                                      यदि देखूंगा  तुमको गुमसुम |

अन्वेषण

  कौन तुम  डूब  रहे  तैराक, 
  तेरे तो हाथ पैर निस्तब्ध |
   किस वस्तु-खोज  में लीन,
   यहाँ जलसतहों से अनुबद्ध ||

                                     क्या  कहते  ईश्वर की खोज,
                                     लक्ष्य है जीवन का अनुमोद |
                                     खोजा है जग में  खूब  मगर,
                                      पा सका न  वह  अभिश्रोत ||

 प्रश्न तू पूंछ रहा है अतिगूढ़,
 जगत का स्रष्टा कौन प्रसिद्ध  |
 क्या कहता  है  तू  मतिमूढ़,
रूप,छवि,ज्ञान,कर्म अरुसिद्ध  ||

                                     यह भूल  समझकर अपनी, 
                                     कर लो आत्मा पर विश्वास |
                                     बुद्धि से दूर  अदृश्य,  अज्ञेय, 
                                      बना जो जीवन का परिहास ||

 वह प्रतिपाद्य विषय से दूर, 
ज्ञान  की  सीमा के भी पार|
 जगत का है अज्ञात रहस्य,
 सृष्टि का फिर भी है आधार ||

                                      वस्तु है मात्र जगत में ज्ञात,
                                       बनी जो केवल आत्म-संवेद | 
                                       तेरे ईश्वर का कोई  प्रतिरूप, 
                                        नहीं है  दृश्य जगत में  खेद ||

  स्वप्न में जो बना अदृश्य, 
  कल्पना क्या देगी आकार  |
  सोच लो तुम  होकर मौन,
  जगत का पा लोगे आधार||

                                        चल जल सतहों से हो दूर,
                                        बना इन्द्रिय को श्रमशील|
                                        तभी वह सुलझेगा अज्ञेय,
                                        बनो  आत्म- संवेदनशील||