गुरुवार, 23 जून 2011

दिल के आयाम

इश्क,मुहब्बत,प्यार अगर, सब दिल के हैं अरमान |
नापाक बताकर लोग इन्हें, क्यों कर देते हैं बदनाम ||

                                         प्रेम का प्याला पी करके, यदि प्रेमी कहलाते हैं |
                                         एक दूसरे की पीड़ा को, मिल करके सहलाते हैं ||
                                         आखिर जग वाले क्यों, इनके दुश्मन बन जाते |
                                          दीवाने तो हर गम को, हंस करके यूँ सह जाते हैं ||
  
  दीवाने तो हंसते- हँसते, पी लेते हैं सारे अपमान |                                                                        
 नापाक बताकर लोग इन्हें, क्यों कर देते बदनाम ||

                                            पहले तो आँखों ही आँखों में, यूं होती है कुछ बातें |  
                                            ओंठों पर लाते ही उनमे, जग जाते कुछ जज्बात ||
                                             दिल से दिल मिलते हैं ,इस परिचय के दरम्यान |
                                             एक दूजे की काया में फिर, बस जाते उनके प्राण ||

जिस्म से जिस्म मिलाते, ही दृढ हो जाते जज्बात |
नापाक बताकर लोग इन्हें, क्यों कर  देते बदनाम ||

                                             इश्क मुहब्बत दिल के ही, कहलाते हैं आयाम |
                                             प्रेम की इस परिणति से, कुछ अभिज्ञ  नादान ||
                                             दीवानों को भी उतना हक है, पाने को सम्मान |
                                             प्यार खुदा का  कहलाता जब, एक दूसरा नाम ||

जीवन सागर में उतरे जो, खुद बन करके पतवार |
नापाक बताकर लोग इन्हें, क्यों कर देते बदनाम ||

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें