सोमवार, 27 जून 2011

अभिलाषा

          मन की नैसर्गिक अभिलाषा, दिखलायी जब तेरा द्वार|
          एक नया  सौन्दर्य छिपाये, लगता  सपनों का संसार ||
          लालायित मन स्वयं करेगा, आज तेरा बहुबिध श्रृंगार |
          जीवन वीणा में बांधेगा फिर, सचमुच कोई नूतन तार ||१||

                                      कितना है सौंदर्य छिपाए, तेरे  मुखमंडल की  आभा |
                                      कितनी सुन्दर है प्रकृति नटी, के जूड़े की यह माला ||
                                      कितनी मादकता दे सकती,नयनों की यह मधुशाला |
                                      पी करके कितना संभल सकेगा, तेरे रूपश्री का हाला ||२||

           उफ़ : कितना सम्मोहन भी है,इन मादक नेत्रों में |
           ज्यों सिमटी आभा बसंत की,  सरसों के खेतों में ||
           काश:समां जाती इस क्षण तुम,इन काले मेघों में |
           पवन दूत बन पीछे पीछे,मैं अलग अलग भेषों में ||३||

                                    माया,प्रकृति,शक्ति सतरूपा, जग में तेरी है पहचान |
                                    श्रद्धा,प्रेम,स्नेह  ना  जाने, कितने और  तेरे उपनाम ||
                                    स्वतःपूर्ण दिखती है तू, जब करती पुष्पों का संधान |
                                    घायल हो जाता है तब कोई, लेकर तेरा ही प्रिय नाम  ||४||

           बन जाती हो कभी प्रेरणा, तुम  करती जीवन में  संचार |
           शील, दया, करूणा बन करके, कभी  लुटा  देती हो प्यार || 
           चन्द्र-निशा में प्रकृति नटी तुम,जब भी करती हो श्रृंगार |
            मन की  वीणा  झंकृत हो जाती, स्पंदित हो उठते  तार||५||| 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें